Uncategorized

समाज में लैंगिक समानता सुनिश्चित करने में मीडिया की भूमिका अहम : नफीसा बिंते शफीक

पटना, 26 जुलाई: “समाज में जेंडर इक्विालिटी (लैंगिक समानता) को बढ़ावा देने के लिए पॉलिसी बनानेवाले से लेकर परिवार के सदस्‍यों तक सबकी बराबर की जिम्‍मेदारी है। हमें जेंडर सेंसिबल और जेंडर ...

रमजान क्या है और क्यों मनाया जाता है ?

अलीशा खानम त्योहार भारत का अटूट हिस्सा है। अलग-अलग समुदाय के त्योहारों ने हमारे देश को विशेष रंग रूप में डाला है। वैसे तो हमारे देश में भिन्न भिन्न प्रकार के त्योहार है परंतु उनमें से कुछ मुख्य ...

एनडीए सरकार को वोट मात्र से अधिक वोटरों की चिंता है : डॉ प्रेम कुमार

पटना, 27 जुलाई। बिहार सरकार में कृषि एवं पशुपालन मंत्री डॉ प्रेम कुमार ने बिहार के कई हिस्सों में आए बाढ़ को लेकर कहा कि बिहार एक ऐसा राज्य है जहाँ हर साल कुछ हिस्से बाढ़ से जरूर प्रभावित होते हैं। ...

फिल्म जगत का वेटरों से पुराना नाता रहा है

अक्षय कुमार के आजकल चर्चा में हैं। पिछले कुछ दिनों से सरोकार वाली फिल्मों को लेकर भी जनमानस में एक सकारात्मक छवि बनी है। अक्षय के बारे में कहा जाता है कि फिल्मों में आने से पहले वो बैंकॉक में ...

मेरी भी आवाज़ सुनो

बच्चों के बारे में सोचते वक्त उसके अभिभावकों को ये पता होता है कि एक दिन ये बच्चे बड़े हो जायेंगे। उस दिन उनकी देखभाल करने की जरुरत नहीं होगी, उल्टा अभिभावकों के बुढ़ापे में बड़े हो चुके बच्चे ही ...

‘पानी बाई’- मजदूर या पत्नी

महाराष्ट्र के लातूर की तस्वीरें अभी याद ही होंगी  पानी की कमी से जूझते महाराष्ट्र के इस इलाके के लिए रेल मंत्री का पानी से भरी ट्रेनें भेजने का फैसला भी काफ़ी चर्चित हुआ है | महाराष्ट्र भारत का ...

केर्रोट एंड द स्टिक”

अलग संदर्भ अलग अर्थ एक ही बात का कई बार अलग अलग मतलब भी निकलता है। कोई “कल” कह रहा हो तो वो बीते कल की बात कर रहा है, आने वाले कल की या मशीनी कल-पुर्जे की, ये सन्दर्भ देखे बिना कहना भी मुश्किल ...

Top Donors